Only Hindi News Today

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चंडीगढ़
Updated Thu, 12 Nov 2020 09:16 PM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

लगातार दूसरे दिन हरियाणा के अधिकांश जिलों में स्मॉग (धुंध) से राहत मिली। हालांकि सुबह के समय वातावरण में नमी अधिक होने के कारण प्रदूषण अधिक रहा। गुरुवार को फतेहाबाद प्रदेश का सबसे अधिक प्रदूषित शहर रहा। यहां वायु गुणवत्ता सूचकांक 405 दर्ज किया गया। 

फतेहाबाद प्रदेश का एकमात्र शहर था, जहां वायु गुणवत्ता सूचकांक 400 से अधिक रहा। इसके अलावा 11 स्थानों पर वायु गुणवत्ता सूचकांक 300 के पार रहा। हिसार शहर में यह 321 दर्ज किया गया।

पलवल की स्थिति सबसे बेहतर थी और यहां एक्यूआई (वायु गुणवत्ता सूचकांक) 154 रहा। एचएयू (हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय) के कृषि मौसम विभाग के अध्यक्ष डॉ. मदन खिचड़ के अनुसार, दो दिनों तक सुबह के समय हल्की धूंध/स्मॉग जैसा वातावरण रहेगा और दिन में मौसम के साफ रहने की संभावना है। 

रात्रि तापमान 9.9 डिग्री, एक जगह जली पराली
मौसम विभाग के अनुसार, गुरुवार को दिनभर मौसम साफ रहा और कड़ी धूप निकली रही। अधिकतम तापमान करीब एक डिग्री की बढ़ोतरी के साथ 30 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं, न्यूनतम तापमान 9.9 डिग्री रहा।

दूसरी तरफ, गुरुवार को हिसार जिले में पराली जलाने का केवल एक ही मामला सामने आया। जिले में अब तक पराली जलाने के 258 मामले सामने आ चुके हैं, जिनमें से 97 चालान किए गए हैं। गुरुवार को सुबह के समय वातावरण में 88 प्रतिशत और शाम के समय 56 प्रतिशत आर्द्रता रही।

300 से अधिक एक्यूआई वाले स्थान 

  • स्थान          एक्यूआई
  • अंबाला          302
  • बहादुरगढ़      342
  • चरखी दादरी  387
  • धारूहेड़ा        324
  • फरीदाबाद     313
  • फतेहाबाद     405
  • गुरुग्राम        301
  • हिसार          321
  • जींद            305
  • सिरसा         313
  • सोनीपत      320
  • यमुनानगर   387

फतेहाबाद जिले में सबसे अधिक पराली जलाई गई। यहीं पर वायु प्रदूषण सबसे अधिक रहा। फतेहाबाद में सबसे अधिक 44 जगह पर पराली जलाई गई।

हरसैक की रिपोर्ट के अनुसार किस जिले में जली कितनी पराली

  • जिला       पराली की घटना
  • अंबाला        01
  • भिवानी       01
  • फतेहाबाद    44
  • हिसार         05
  • जींद           39
  • कैथल        12
  • करनाल      03
  • कुरुक्षेत्र      01
  • रोहतक      09
  • सिरसा      14
  • सोनीपत    02
  • कुल         131
लगातार दूसरे दिन हरियाणा के अधिकांश जिलों में स्मॉग (धुंध) से राहत मिली। हालांकि सुबह के समय वातावरण में नमी अधिक होने के कारण प्रदूषण अधिक रहा। गुरुवार को फतेहाबाद प्रदेश का सबसे अधिक प्रदूषित शहर रहा। यहां वायु गुणवत्ता सूचकांक 405 दर्ज किया गया। 

फतेहाबाद प्रदेश का एकमात्र शहर था, जहां वायु गुणवत्ता सूचकांक 400 से अधिक रहा। इसके अलावा 11 स्थानों पर वायु गुणवत्ता सूचकांक 300 के पार रहा। हिसार शहर में यह 321 दर्ज किया गया।

पलवल की स्थिति सबसे बेहतर थी और यहां एक्यूआई (वायु गुणवत्ता सूचकांक) 154 रहा। एचएयू (हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय) के कृषि मौसम विभाग के अध्यक्ष डॉ. मदन खिचड़ के अनुसार, दो दिनों तक सुबह के समय हल्की धूंध/स्मॉग जैसा वातावरण रहेगा और दिन में मौसम के साफ रहने की संभावना है। 

रात्रि तापमान 9.9 डिग्री, एक जगह जली पराली
मौसम विभाग के अनुसार, गुरुवार को दिनभर मौसम साफ रहा और कड़ी धूप निकली रही। अधिकतम तापमान करीब एक डिग्री की बढ़ोतरी के साथ 30 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं, न्यूनतम तापमान 9.9 डिग्री रहा।

दूसरी तरफ, गुरुवार को हिसार जिले में पराली जलाने का केवल एक ही मामला सामने आया। जिले में अब तक पराली जलाने के 258 मामले सामने आ चुके हैं, जिनमें से 97 चालान किए गए हैं। गुरुवार को सुबह के समय वातावरण में 88 प्रतिशत और शाम के समय 56 प्रतिशत आर्द्रता रही।

Source link

Leave a Reply