Only Hindi News Today

भारतीय सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे इस महीने के शुरू में पहली उच्च स्तरीय यात्रा के लिए नेपाल जाने वाले हैं। इस साल के शुरू में भारत-नेपाल के बीच बॉर्डर को लेकर मतभेद देखे गए थे। नेपाल के रक्षा मंत्रालय ने बुधवार को घोषणा की कि नरवणे नवंबर में दौरा करेंगे। नेपाल सरकार के एक बयान में कहा गया,  “नेपाल सरकार ने द्वारा 3 फरवरी 2020 को ही इस यात्रा को मंजूरी दे दी थी। लेकिन दोनों देशों में [कोविड -19] लॉकडाउन के कारण स्थगित कर दिया गया था।”
बयान में कहा गया है कि दोनों देशों की सेनाओं के बीच लंबे समय से चले आ रहे समझौते के अनुसार, नेपाल की राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी इस यात्रा के दौरान एक निवेश समारोह में जनरल नरवणे को नेपाली सेना के जनरल रैंक की मानद रैंक प्रदान करेंगी। हालांकि नेपाल सरकार के बयान में यात्रा की तारीखें उजागर नहीं की हैं। लेकिन मामले से परिचित व्यक्ति ने नाम न छआपने की शर्त पर बताया कि 3-5 नंवबर के बीच इस यात्रा के होने की उम्मीद की जा रही है। 

यह भी पढ़ें- रिहाई के बाद जम्मू कश्मीर के मुख्य नेताओं के साथ आज मीटिंग करेंगी महबूबा मुफ्ती
ये यात्रा दोनों देशों को सीमा रेखा से जुड़े मामले पर द्विपक्षीय संबंधों के प्रभावित होने के बाद दोनों पक्षों को रक्षा और सुरक्षा सहयोग को आगे बढ़ाने का अवसर प्रदान करेगी। उस समय, नेपाल ने भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा तिब्बत के साथ सीमा पर लिपुलेख क्षेत्र के लिए एक नई सड़क खोलने पर आपत्ति जताई थी। नेपाल ने तब एक नया नक्शा जारी किया। जिसमें भारत के नियंत्रण वाले, कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा को नेपाली क्षेत्र के हिस्से के रूप में दिखाया गया था।

Source link

Leave a Reply