Only Hindi News Today

वॉशिंगटन3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

महामारी के दौरान ग्राउंडेड उन विमानों की जांच की जाएगी, जिन्होंने सात या ज्यादा दिनों तक उड़ान नहीं भरी है। (फाइल फोटो)

  • कोरोनावायरस के दौरान जिन विमानों ने उड़ान नहीं भरा, उनके इंजन खराब होने की आशंका
  • बोइंग ने पुराने 737 विमानों के ऑपरेटर्स को जंग वाले इंजन वाल्व की जांच करने की सलाह दी

फेडरल एविएशन एडमिनिस्ट्रेशन (एफएए) ने एयरलाइंस को चेतावनी दी है कि पुराने बोइंग 737 विमानों की जांच करे। कोरोनावायरस महामारी के दौरान स्टोरेज में रखे गए विमानों के वाल्व में जंग लगी हो सकती है। यह ड्युअल-इंजन फेल होने का कारण बन सकती है।

एफएए ने गुरुवार को उड़ान से संबंधित एक इमरजेंसी निर्देश जारी किया। इसमें एयरलाइंस को करीब दो हजार यूएस रजिस्टर्ड बोइंग 737 एनजी और क्लासिक विमानों का निरीक्षण करने का आदेश दिया गया है। इनमें उन विमानों की जांच की जाएगी, जिन्होंने सात या ज्यादा दिनों तक उड़ान नहीं भरी है।

बोइंग ने एक बयान में कहा कि महामारी के दौरान कम मांग के कारण प्लेन को स्टोर किया गया था। उड़ान नहीं भरने के चलते इनके वाल्व में जंग लगने की आशंका है। जब कभी भी इंजन को ऑन किया जाता है तो 5वीं स्टेज में जाते ही वाल्व अटक जाता है और एक इंजन बंद हो जाता है। ऐसे चार मामले रिपोर्ट किए गए, इसलिए आपातकालीन निर्देश जारी किए गए।

जंग वाले वाल्व को बदलने के आदेश

बोइंग ने कहा कि उसने पुराने 737 विमानों के ऑपरेटर्स को जंग वाले इंजन वाल्व की जांच करने की सलाह दी है। अगर जंग पाया जाता है, तो वाल्व को विमान के उड़ान भरने से पहले बदला जाना चाहिए। निर्देश में 737 एनजी (600 से 900 सीरिज) और 737 क्लासिक (737-300 से 737-500 सीरिज) शामिल हैं।

ये भी पढ़ें

ब्रिटेश एयरवेज ने ‘क्वीन ऑफ द स्काई’ कहे जाने वाले बोइंग 747 को किया रिटायर, पैसेंजर की कमी और मेंटेनेंस का ज्यादा खर्च बना फैसले की वजह

0

Source link

Leave a Reply