Only Hindi News Today

शनिवार (17 अक्टूबर) को हुई बीसीसीआई की वर्चुअल मीटिंग में कई बड़े फैसले लिए गए। बीसीसीआई के प्रेसिडेंट सौरव गांगुली ने बताया कि भारत के घरेलू सीजन की शुरुआत 1 जनवरी 2021 से होगी, घरेलू सीजन के अलावा इस मीटिंग में ऑस्ट्रेलियाई दौरे और इंग्लैंड के खिलाफ होने वाली सीरीज को लेकर भी अहम चर्चा हुई। कोराना वायरस के चलते घरेलू क्रिकेट पर मार्च से ही ब्रेक लगा हुआ है। 

बीसीसीआई प्रेसिडेंट सौरव गांगुली ने घरेलू सीजन को लेकर कहा, ‘हमने घरेलू क्रिकेट को लेकर काफी समय तक चर्चा की और उसके बाद हमने फैसला किया है कि 1 जनवरी 2021 से घरेलू क्रिकेट की शुरुआत होगी।’ उन्होंने आगे कहा, ‘हम प्रैक्टिस पर्पस को देखते हुए सारे टूर्नामेंटों का इंतजाम नहीं कर सकते हैं। रणजी ट्रॉफी का पूरा सीजन करवाया जाएगा और हमारे लिए सारे टूर्नामेंटों को करवाना संभव नहीं है।’

ट्रैवल को कम करने के लिए खबरों के अनुसार, रणजी ट्रॉफी जैसी टूर्नामेंट को चार सेन्टर पर करवाया जाने की तैयारी है और इनको चार ग्रुप (ए, बी, सी और प्लेट) में बांटा जाएगा। इसका मतलब यह है कि  एक ग्रुप के सारे मैच एक ही राज्य के अंदर खिलाए जाएंगे। बीसीसीआई के एक अधिकारी ने इस पर कहा, ‘पुडुचेरी में छह ग्राउंड मौजूद हैं, ऐसे में प्लेट ग्रुप के सारे मैच वहां करवाए जा सकते हैं। हमारा मैन मोटिव यही है कि खिलाड़ियों को कम से कम सफर करना पड़े।’ 

इसके साथ ही भारत के ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गांगुली ने अपडेट देते हुए कहा, ‘ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट ने हमें यात्राक्रम भेजा है और उसके बारे में हमने चर्चा की है। हम ऑस्ट्रेलिया में चार टेस्ट मैच खेलेंगे, जो कि जनवरी के तीसरे हफ्ते में समाप्त होंगे।’ टीम इंडिया के इस दौरे पर तीन वनडे, तीन टी20 और चार टेस्ट मैच खेलने की उम्मीद है। 

इस साल कोरोना वायरल के चलते स्थगित की गई इंग्लैंड सीरीज पर गांगुली ने कहा, ‘इंग्लैंड के खिलाफ होने वाली सीरीज को लेकर हमारे पास सीधे-सीधे तीन से चार महीने मौजूद हैं। हम कोरोना की स्थिती पर लगातार नजर बनाए हुए है और स्थिती अभी अस्थिर है। हम इस पर हालात को देखकर फैसला करेंगे।’ बीसीसीआई के एक अधिकारी के अनुसार, इस बात की संभावना है कि अगर इंग्लैंड सीरीज भारत में होती है, तो टी20 और वनडे सीरीज  के सारे मैच एक ही मैदान पर करवाए जा सकते हैं। जबकि टेस्ट मैचों को दो स्थानों पर करवाया जा सकता है।

Source link

Leave a Reply