Only Hindi News Today

भोपाल: मध्य प्रदेश में अगले महीने 28 सीटों पर उपचुनाव है, वोटिंग में 15 दिन बचे हैं. लेकिन इससे पहले महिला मंत्री के अपमान पर कांग्रेस- बीजेपी में महाभारत छिड़ गई है. पूर्व सीएम कमलनाथ ने शिवराज सरकार की मंत्री इमरती देवी के बारे में ऐसे शब्द कह दिए हैं जिसे बीजेपी लाल हो गई है. विरोध में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान समेत एमपी बीजेपी के बड़े बड़े नेता सुबह दस से बारह बजे तक मौन व्रत रखने वाले हैं.

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने जिन इमरती देवी को लेकर विवादित बयान दिया वे अब सिंधिया के साथ बीजेपी में शामिल होकर शिवराज सरकार में मंत्री बन गई हैं. बीजेपी ने इमरती देवी को डबरा विधानसभा सीट से अपना उम्मीदवार बनाया है. रविवार को कमलनाथ जब कांग्रेस प्रत्याशी सुरेंद्र राजे के लिए प्रचार करने डबरा पहुंचे तो इमरती देवी पर निशाना साधने के चक्कर में इनकी जुबान फिसल गई.

बीजेपी दो घंटे करेगी मौन व्रत, चुनाव आयोग से की गयी शिकायत

कमलनाथ के बयान के बाद बीजेपी ने बिना वक्त गंवाए कांग्रेस पर चढ़ाई कर दी. एलान किया गया कि मध्य प्रदेश बीजेपी आज दो घंटे का मौन वर्त रखेगी. खुद सीएम शिवराज भोपाल में पुरानी विधानसभा पास महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने धरना देंगे. बीजेपी कमलनाथ के विवादित बयान की शिकायत चुनाव आयोग से भी कर चुकी है. मांग की गई है कि कमलनाथ को चुनाव प्रचार से रोका जाए.

बयान को लेकर कमलनाथ पर इमरती देवी का हमला

कमलनाथ पर अब इमरती देवी ने भी पलटवार किया है. लेकिन इन्होंने जवाब देने के चक्कर में बंगाल के लोगों के चरित्र पर भी सवाल उठा दिए हैं जिसपर बवाल हो सकता है. इमरती देवी ने कहा कि वो बंगाल के हैं महिलाओं की इज्जत करना नहीं जानते. उन्होंने कहा, ”वो बंगाली आदमी हैं, वो मध्यप्रदेश सिर्फ मुख्यमंत्री बनने आए. उन्हें सभ्यता नहीं है तो क्या कहा जाए. मुख्यमंत्री के पद से हटकर वो पागल हो गए हैं और अब पागल बनकर पूरे मध्यप्रदेश में घूम रहे हैं. अब इसमें हम क्या कह सकते हैं, कुछ भी नहीं कह सकते.”

बयान से बैकफुट पर कमलनाथ अब सफाई दे रहे

मध्य प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों के लिए तीन नवंबर को उपचुनाव होना है. कमलनाथ इसी चुनाव के आसरे सत्ता में वापसी का सपना देख रहे हैं लेकिन इमरती देवी पर दिए बयान ने इन्हें बैकफुट पर ला दिया है. कमलनाथ अब अपने बयान पर सफाई दे रहे हैं.

कमलनाथ ने कहा, ”शिवराज जी आप कह रहे हैं कमलनाथ ने आइटम कहा. हां मैंने आइटम कहा है क्योंकि यह कोई असम्मानजनक शब्द नहीं है. मैं भी आइटम हूं आप भी आइटम है और इस अर्थ में हम सभी आइटम है. लोकसभा और विधानसभा में कार्यसूची को आइटम नंबर लिखा जाता है, क्या यह असम्मानजनक है? सामने आइए और मुकाबला कीजिए. सहानुभूति और दया बटोरने की कोशिश वही लोग करते हैं जिन्होंने जनता को धोखा दिया हो.”

मेरे कोक पीने को मुद्दा बना रहे, क्या इससे जनता के आंसू साफ होंगे- कमलनाथ

कमलनाथ ने कहा, ”मध्य प्रदेश की जनता जब खून के घूंट पी रही है तो उसके आंसू पोंछने की बजाय बीजेपी मेरे कोक पीने को मुद्दा बना रही है . क्या यह कोई मुद्दा है? ((क्या इससे जनता का जीवन जुड़ा है? शिवराज जी यह तो बताएं कि अगर कमलनाथ कोक पीना बंद कर दें तो क्या प्रदेश में माफिया राज रुक जाएगा? बलात्कार रुक जाएंगे? किसानों की आत्महत्या रुक जाएगी? जहरीली शराब से निर्दोष लोगों की मौतें रुक जाएंगीं?”

ये भी पढ़ें
क्या ताइवान से युद्ध की तैयारी में है चीन, सैनिकों की संख्या बढ़ाई, सबसे मॉडर्न मिसाइल भी तैनात की
Coronavirus: श्रीलंका में मास्क नहीं पहनने पर जेल या जुर्माने का प्रावधान, संक्रमण को काबू करने के लिए नियम सख्त

Source link

Leave a Reply