Only Hindi News Today

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग
– फोटो : twitter

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने रविवार को कहा कि जी-20 देशों को जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए आगे आकर नेतृत्व करना चाहिए और जलवायु परिवर्तन पर ‘संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क कन्वेंशन’ के दिशा-निर्देशों का पालन करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि जी-20 देशों को पेरिस समझौते के पूर्ण और प्रभावी कार्यान्वयन पर जोर देना चाहिए। जी-20 रियाद सम्मेलन में ‘पृथ्वी के संरक्षण’ विषय पर वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए अपने संबोधन में जिनपिंग ने कहा, जी -20 को जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए आगे आकर नेतृत्व करना जारी रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि ‘जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क कन्वेंशन’ के दिशा-निर्देशों का पालन करना चाहिए और पेरिस समझौते के पूर्ण और प्रभावी कार्यान्वयन पर जोर देना चाहिए।’

जिनपिंग ने प्रकृति के प्रति सम्मान जताते हुए पारिस्थितिकी तंत्र की रक्षा के लिए जी -20 देशों का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि चीन भूमि क्षरण को कम करने और समुद्र से प्लास्टिक की सफाई में जी-20 सहयोग को मजबूत बनाने का समर्थन करता है। उन्होंने उम्मीद जताई की कि बैठक लक्ष्यों को निर्धारित करेगी और आने वाले वर्षों में वैश्विक जैव विविधता के संरक्षण को सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाए जाएंगे।

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने रविवार को कहा कि जी-20 देशों को जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए आगे आकर नेतृत्व करना चाहिए और जलवायु परिवर्तन पर ‘संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क कन्वेंशन’ के दिशा-निर्देशों का पालन करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि जी-20 देशों को पेरिस समझौते के पूर्ण और प्रभावी कार्यान्वयन पर जोर देना चाहिए। जी-20 रियाद सम्मेलन में ‘पृथ्वी के संरक्षण’ विषय पर वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए अपने संबोधन में जिनपिंग ने कहा, जी -20 को जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए आगे आकर नेतृत्व करना जारी रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि ‘जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क कन्वेंशन’ के दिशा-निर्देशों का पालन करना चाहिए और पेरिस समझौते के पूर्ण और प्रभावी कार्यान्वयन पर जोर देना चाहिए।’

जिनपिंग ने प्रकृति के प्रति सम्मान जताते हुए पारिस्थितिकी तंत्र की रक्षा के लिए जी -20 देशों का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि चीन भूमि क्षरण को कम करने और समुद्र से प्लास्टिक की सफाई में जी-20 सहयोग को मजबूत बनाने का समर्थन करता है। उन्होंने उम्मीद जताई की कि बैठक लक्ष्यों को निर्धारित करेगी और आने वाले वर्षों में वैश्विक जैव विविधता के संरक्षण को सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाए जाएंगे।

Source link

Leave a Reply